::

Search

शबे बरात क्या है ? | Shab e Barat | hindi Aur English

  • Share this:
शबे बरात क्या है ? | Shab e Barat | hindi Aur English

Opera King Social Media Platform B

शबे बरात को लेकर बहुत से सवाल लोगो के दिमाग में आते है .. जैसे शबे बरात क्या है ? शबे बरात क्यों मनाया जाता है ? शबे बरात की हकीक़त क्या है ? शबे बरात की रात क्या करना चाहिए ? तो आइये आज के इस पोस्ट में इन सवालों का जवाब आपको बताते है

पहले ये जान लो … शबे बरात शाबान महीने की 15वीं रात को मनाया जाता है | शाबान इस्लामिक साल का 8वां महीना है | शाबान का मतलब होता है जमा करना या अलग करना | अल्लाह के प्यारे रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते है | शाबान मेरा महीना है | रजब अल्लाह का महीना है  और रमज़ान मेरी उम्मत का महीना है | शाबान गुनाहों को मिटाने वाला महीना है और रमज़ान गुनाहों से पाक करने वाला महीना है | अल्लाह के प्यारे रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम रमज़ान के बाद सबसे ज्यादा रोज़े शाबान महीने में रखा करते थे |

 

  • शबे बरात का मतलब क्या है ?
शबे बरात में शब का मतलब होता है रात और बरात का मतलब होता है बरी होना | चूँकि यह रात अपने गुनाहों से तौबा करके अल्लाह के फ़ज़्ल से जहन्नम के अज़ाब से आजाद होने की रात है इसलिए इसे शबे बरात कहा जाता है। इसे बरकत वाली रात, दोज़ख से निजात पाने वाली रात और रहमत वाली रात भी कहा जाता है। इस रात के बारे में उम्मुल मोमिनीन हज़रत बीबी आयशा सिद्दीका र.अ. को बताते हुए अल्लाह के रसूल ने फरमाया की इस रात अगले साल जितने भी बच्चे पैदा होने वाले होते हैं वह इस रात लिख दिए जाते हैं और जितने लोग इस साल मरने वाले होते हैं उनकी मौत का वक्त और दिन मुक़र्रर कर दिया जाता है | इस रात में लोगों के साल भर के आमाल उठा लिए जाते हैं और इसी रात साल भर की मुकर्रर रोज़ी उतार दी जाती है।
 

अल्लाह पाक इस रात अपनी रहमत से अपने बंदों को बख्श देता है। लेकिन शिर्क करने वाले अपने भाई से दुश्मनी रखने वालों को नहीं बक्शता। इस रात तौबा करने वालो की तौबा कुबूल की जाती हैं। रोज़ी में बरकत की दुआ करने वालो की रोज़ी में बरकत अता की जाती हैं। बीमारों के लिए दुआ मांगने पर बीमारों को बीमारी से शिफा दी जाती हैं।

इस रात कब्रिस्तान जाना फातिहा पढ़ना इसाले सवाब करना और दुआए मगफिरत करना सुन्नत है। हदीस शरीफ में है, जो आदमी 11 बार कुल हुवल्लाह शरीफ पढ़ कर उसका सवाब मुर्दो की रूहों को पहुंचाएं तो मुर्दो को सवाब पहुँचाने के साथ ही पढ़ने वाले को मुर्दो की तादात के बराबर सवाब मिलता है । इस रात बेरी के 7 पत्ते पानी में उबालकर उस पानी से नहाए तो इंशाल्लाह साल भर तक जादू टोने के असर से आप महफूज़ रहेंगे।

 

  • शब-ए-बरात पर क्या ज़रूरी काम करना चाहिए?

शब-ए-बरात की रात बहुत मुबारक रात मानी जाती हैं। इस रात को इबादत की रात कहा जाता हैं। इसलिए इस रात को नीचे बताये कुछ ज़रूरी कामों को ज़रूर करना चाहिए। जो इस तरह हैं।

  • कब्रिस्तान जाकर मुर्दो के लिए इसाले सवाब और दुआए मगफिरत की जाए।
  • इस रात को शब्न बेदारी करें | नफ्ल नमाज पढ़ने तिलावत करने और दुरूद व दुआ पढ़ने के साथ अपने गुनाहों से तौबा करने में बितायी जाए ताकि अल्लाह की रहमत हमारे गुनाहों पर पर्दा डालकर हमें दोज़ख की आग से बरी होने का हकदार बना दे |
  • इस रात इबादत में गुजारने के बाद दिन में रोजा रखा जाए यह सुन्नत है।
इसके अलावा इसाले सवाब के लिए कुछ मीठी चीजें बनवाना, फातिहा कराना , खाना खिलाना व तोहफे पेश करने में कोई हर्ज नहीं | लेकिन इसे पटाखों का त्यौहार समझना नादानी है। जो सरासर नाजायज़ और हराम है। इस रात में अल्लाह पाक बनी कल्ब की बकरियों के बाल की तादात के बराबर गुनाहगारों को जहन्नम से आज़ाद फरमा देता है। लेकिन काफिर, दुश्मनी रखने वाले, रिश्ता तोड़ने वाले, मां बाप की नाफरमानी करने वाले और शराब पीने वालों पर रहम नहीं फरमाता। ऐसे लोगों की बख्शिश नहीं होती।
 

इस रात का फैज़ हासिल करने के लिए चाहिए कि अपने गुनाहों से सच्ची तौबा करें। अगर मां-बाप नाराज़ है तो उन्हें खुश किया जाए क्योंकि जब तक वह राज़ी नहीं होंगे तब तक अल्लाह राज़ी नहीं होगा। किसी दीनी भाई से मनमुटाव हो गया हो या सलाम कलाम बंद हो तो मेल मिलाप करके गलतफहमी दूर करके आपस में मोहब्बत कायम करी जाए । फिर अपने रब से रहम व करम और मगफिरत की दुआ मांगी जाये इस यकीन के साथ की अल्लाह पाक हमें भी इसके फैज़ से मालामाल फरमाएगा।

यह रात तौबा इस्तिगफार की रात है इसलिए हमें चाहिए कि हम इसकी कद्र करें इसकी अहमियत समझे और अपने गुनाहों से माफी मांगे,तौबा करे और तौबा पर कायम रहने की नियत भी रखें।

Shab E Barat Ki 6 Rakat Nafil Namaz Ka Tarika / शबे बरात की 6 रकत नफिल नमाज़ का तरीक़ा

English
 

Rasoolullah (Sallallahu Alaihi Wasallam) has said, “On the night of the middle of Shabaan, Allah Ta’ala descends to the heaven of this lower world and forgives every Muslim, except a mushrik (one who associates partners with Allah Ta’ala), the bearer of malice, the breaker of family ties, the adulterer, the miser, the one who is disobedient to his parents and the one who consumes alcohol. He (Sallallahu Alaihi Wasallam) has also stated that during this night Allah Ta’ala opens 300 doors of Mercy unto his servants and that the slaves of Allah Ta’ala are emancipated from the fire of hell, as numerous as the hairs on the flocks of the tribe of Bani Kalb.

Allah Ta’ala states in the Holy Qur’an, “Therein all matters of wisdom are sorted out for Decree.” [Surah 44, Verse 4]. This Aayat refers to Shab-e-Baraat and it is stated in Tafseer Noorul Irfaan that on this great night, the entire year’s programme of sustenance, death, life, honour and disgrace, in short every affair of man is listed from the Divine Tablet and handed over to the angels of each area on the earth in the form of a book. For example the Angel of Death is given a list of the names of those who would be dying in the coming year.

Hazrat Aisha Siddiqa (Radiallahu Ta’ala Anha) reports that once on Shab-e-Baraat Rasoolullah (Sallallahu Alaihi Wasallam) went into prostration for a long time and she watched him until she thought that Allah Ta’ala had taken His Messenger (Sallallahu Alaihi Wasallam) from this world. After a long time had elapsed, she got close enough to touch the soles of his feet. He stirred, and she heard him say in his prostration, “I take refuge with Your pardon from Your punishment. I take refuge with Your approval from Your displeasure. I take refuge in You from You. Glory be to You. I cannot fully praise You, as You have praised Yourself.” After this incident Hazrat Aisha Siddiqa (Radiallahu Ta’ala Anha) asked Rasoolullah (Sallallahu Alaihi Wasallam), “O Messenger of Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam), tonight I have heard you utter something during your prostration that I never heard you mention before.” Rasoolullah (Sallallahu Alaihi Wasallam) then asked, “Have you learnt it?” When she said yes, he replied, “Study those words and teach them, for Hazrat Jibra’eel (Alaihis Salaam) instructed me to repeat them during the prostration.”

This Dua is given below and we must try to recite it as much as possible Insha Allah, according to the Sunnah of the Beloved Rasool (Sallallahu Alaihi Wasallam).

Transliteration: (Allahumma) A’oozu bi Afwika Min Iqaabika Wa A’oozu Biradaaka Min Sakhatika Wa A’oozu Bika Minka Jalla Wajhuka Laa Uhsi Sanaa’an Alayka Anta Kama Asnaita Ala Nafsik.

Hereunder are some other Ibaadaat that may be performed during this night:

After Asr Salaah the following should be recited 70 times:
Astagh Firullaha Rabbi Min Kulli Zam Bin Wa A’tubu Elaih

Just before sunset the following should be recited 40 times:
Laa Hawla Wala Quwata Illa Billa Hil Aleeyil Azeem

After Maghrib Salaah 6 rakaats of Nafl Salaah should be read as three sets of two rakaats. Before the first 2 rakaats, make Dua to receive a long life through the barkat of those 2 rakaats. For the second set make Dua to be saved from all types of problems and for the third set make Dua for Allah Ta’ala not to make you needy of anyone besides Him. After each set of rakaats, recite Surah Yaseen once, Surah Ikhlaas 21 times and thereafter Dua-e-Nisfe Shabaan.
One should also try to fast on the 15th of Shabaan as this is the Sunnah of Rasoolullah (Sallallahu Alaihi Wasallam). It is also better to fast both on the 14th and 15th (if possible) so that one would enter the blessed night of Shab-e-Baraat in a state of fasting.
One should also try to visit the Qabarastan (graveyard) to make Dua of Maghfirat (Forgiveness) for the deceased, as this is the Sunnah of our beloved Rasool (Sallallahu Alaihi Wasallam).
This is an opportunity that everyone needs to take advantage of. We do not know if our names will be written on the list given to the Angel of Death this year, and whether we will have the opportunity of experiencing this blessed night again. We must make Tauba (repent) for our sins and ask for Allah Ta’ala’s Forgiveness. We are such wretched sinners but the Mercy of Allah Ta’ala is boundless. No matter how sinful we are, it is never too late to fall down in prostration before our Lord and to cry in shame for our insolent behaviour in disobeying His commands. Allah Ta’ala’s Mercy overcomes His anger therefore we should not lose hope in His Mercy, no matter how wretched we might be. Allah Ta’ala just wants an excuse to forgive us but it is we who are too lazy to humble ourselves before Him to ask for His Mercy.

On this night when Allah Ta’ala calls out, “Who is there who seeks forgiveness so that I may forgive Him?” the whole night, why can’t we be the ones to respond to that call by crying in the Court of Allah Ta’ala and saying, “Ya Allah, this wretched sinner seeks Your forgiveness. I am present in Your Court and I humble myself in shame before You. Through the Sadaqah and Wasilah of Your Beloved Messenger, Muhammad Mustafa (Sallallahu Alaihi Wasallam) please forgive me.” Nothing is stopping us besides our nafs and Shaitaan. Remember that Allah Ta’ala loves those who cry in His Court out of shame and repent for their sins, so do not let this blessed night go by in vain.

May Allah Ta’ala grant us the Taufeeq to take full advantage of the blessings of Shab-e-Baraat, to repent from our sins and to make as much Ibaadat as possible on this blessed night, Ameen.

 

Tags:
Mohammad Wasim

Mohammad Wasim

Kam Wo Le Lijiye Tumko Jo Razi Kare, Theek Ho Naame Raza Tumpe Karoro Durood.

best naat |rapid naat test |naat test |urdu naat |har waqt tasawwur mein naat lyrics |a to z naat mp3 download |junaid jamshed naat |new naat sharif |naat assay |naat allah hu allah |naat audio |naat allah allah |naat app |naat allah mera sona hai |naat arabic |naat aptima |naat akram rahi|naat album |arabic naat |audio naat |audio naat download |ab to bas ek hi dhun hai naat lyrics |aye sabz gumbad wale naat lyrics |arbi naat |atif aslam naat |allah huma sale ala naat lyrics |rabic naat ringtone |naat blood test |naat by junaid jamshed  |naat beautiful |naat book |naat battery |naat by veena malik |nat bug |naat bhar do jholi |est naat 2023 | naat 2024 coming soon |bangla naat |best naat in urdu |beautiful naat |naat lyrics in english |naat lyrics in hindi|naat lyrics in urdu |naat lyrics in english and hindi