::

Search

मरहबा जश्न मीलाद का है / Marhaba Jashn Milad Ka Hai

  • Share this:
मरहबा जश्न मीलाद का है / Marhaba Jashn Milad Ka Hai

marhaba ! marhaba ! marhaba mustafa !

kaun aaya sawere sawere ?
chaaro.n jaanib hai.n kaise ujaale

aamad-e-mustafa ! marhaba marhaba !
ahmad-e-mujtaba ! marhaba marhaba !
sarwar-e-do jahaa.n ! marhaba marhaba !
sayyidul-asfiya ! marhaba marhaba !
mere haajat-rawa ! marhaba marhaba !
mere mushkil-kusha ! marhaba marhaba !
KHaatimul-ambiya ! marhaba marhaba !

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

marhaba ki zabaa.n par sada hai
aaj meelaad-e-KHair-ul-wara hai
har koi jhoom kar keh raha hai

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

kaun aaya sawere sawere ?
chaaro.n jaanib hai.n kaise ujaale
bil-yaqee.n aamad-e-mustafa hai

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

de rahe the ye 'isa basharat
aaenge jald maah-e-risaalat
aaj saa'at wo jalwa-numa hai

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

aamad-e-mustafa ! marhaba marhaba !
ahmad-e-mujtaba ! marhaba marhaba !
sarwar-e-do jahaa.n ! marhaba marhaba !
sayyidul-asfiya ! marhaba marhaba !
mere haajat-rawa ! marhaba marhaba !
mere mushkil-kusha ! marhaba marhaba !
KHaatimul-ambiya ! marhaba marhaba !

'aurate.n surKH-roo ho gai.n hai.n
'izzate.n bachchiyo.n ko mili hai.n
har taraf boo-e-'ishq-o-wafa hai

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

ye kehti thi ghar ghar me.n jaa kar haleema
mere ghar me.n KHair-ul-wara aa gae hai.n
ba.De auj par hai mera ab muqaddar
mere ghar rasool-e-KHuda aa gae hai.n

ho mubaarak tujhe, ai haleema !
teri godi me.n hai.n shaah-e-waala
kitna pyaara muqaddar tera hai

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

ham bhi mehfil sajaate hai.n, Tafseer !
un ki naa'te.n sunaate hai.n, Tafseer !
haa.n, yahi jashn sab se ba.Da hai

marhaba jashn meelaad ka hai
marhaba jashn meelaad ka hai

aamad-e-mustafa ! marhaba marhaba !
ahmad-e-mujtaba ! marhaba marhaba !
sarwar-e-do jahaa.n ! marhaba marhaba !
sayyidul-asfiya ! marhaba marhaba !
mere haajat-rawa ! marhaba marhaba !
mere mushkil-kusha ! marhaba marhaba !
KHaatimul-ambiya ! marhaba marhaba !


Poet:

Tafseer Raza Amjadi

Naat-Khwaan:

Hafiz Dr. Nisar Ahmed Marfani

 

मरहबा ! मरहबा ! मरहबा मुस्तफ़ा !

कौन आया सवेरे सवेरे ?
चारों जानिब हैं कैसे उजाले

आमद-ए-मुस्तफ़ा ! मरहबा मरहबा !
अहमद-ए-मुज्तबा ! मरहबा मरहबा !
सरवर-ए-दो जहाँ ! मरहबा मरहबा !
सय्यिदुल-अस्फ़िया ! मरहबा मरहबा !
मेरे हाजत-रवा ! मरहबा मरहबा !
मेरे मुश्किल-कुशा ! मरहबा मरहबा !
ख़ातिमुल-अंबिया ! मरहबा मरहबा !

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

मरहबा की ज़बाँ पर सदा है
आज मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा है
हर कोई झूम कह रहा है

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

कौन आया सवेरे सवेरे ?
चारों जानिब हैं कैसे उजाले
बिल-यक़ीं आमद-ए-मुस्तफ़ा है

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

दे रहे थे ये 'ईसा बशारत
आएँगे जल्द माह-ए-रिसालत
आज सा'अत वो जल्वा-नुमा है

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

आमद-ए-मुस्तफ़ा ! मरहबा मरहबा !
अहमद-ए-मुज्तबा ! मरहबा मरहबा !
सरवर-ए-दो जहाँ ! मरहबा मरहबा !
सय्यिदुल-अस्फ़िया ! मरहबा मरहबा !
मेरे हाजत-रवा ! मरहबा मरहबा !
मेरे मुश्किल-कुशा ! मरहबा मरहबा !
ख़ातिमुल-अंबिया ! मरहबा मरहबा !

'औरतें सुर्ख़-रू हो गईं हैं
'इज़्ज़तें बच्चियों को मिली हैं
हर तरफ़ बू-ए-'इश्क़-ओ-वफ़ा है

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

ये कहती थी घर घर में जा कर हलीमा
मेरे घर में ख़ैर-उल-वरा आ गए हैं
बड़े औज पर है मेरा अब मुक़द्दर
मेरे घर रसूल-ए-ख़ुदा आ गए हैं

हो मुबारक तुझे, ऐ हलीमा !
तेरी गोदी में हैं शाह-ए-वाला
कितना प्यारा मुक़द्दर तेरा है

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

हम भी महफ़िल सजाते हैं, तफ़्सीर !
उन की ना'तें सुनाते हैं, तफ़्सीर !
हाँ, यही जश्न सब से बड़ा है

मरहबा जश्न मीलाद का है
मरहबा जश्न मीलाद का है

आमद-ए-मुस्तफ़ा ! मरहबा मरहबा !
अहमद-ए-मुज्तबा ! मरहबा मरहबा !
सरवर-ए-दो जहाँ ! मरहबा मरहबा !
सय्यिदुल-अस्फ़िया ! मरहबा मरहबा !
मेरे हाजत-रवा ! मरहबा मरहबा !
मेरे मुश्किल-कुशा ! मरहबा मरहबा !
ख़ातिमुल-अंबिया ! मरहबा मरहबा !


शायर:

तफ़्सीर रज़ा अम्जदी

ना'त-ख़्वाँ:

हाफ़िज़ डॉ. निसार अहमद मार्फ़ानी

 

OK All Video

Mohammad Wasim

Mohammad Wasim

Kam Wo Le Lijiye Tumko Jo Razi Kare, Theek Ho Naame Raza Tumpe Karoro Durood.

best naat |rapid naat test |naat test |urdu naat |har waqt tasawwur mein naat lyrics |a to z naat mp3 download |junaid jamshed naat |new naat sharif |naat assay |naat allah hu allah |naat audio |naat allah allah |naat app |naat allah mera sona hai |naat arabic |naat aptima |naat akram rahi|naat album |arabic naat |audio naat |audio naat download |ab to bas ek hi dhun hai naat lyrics |aye sabz gumbad wale naat lyrics |arbi naat |atif aslam naat |allah huma sale ala naat lyrics |rabic naat ringtone |naat blood test |naat by junaid jamshed  |naat beautiful |naat book |naat battery |naat by veena malik |nat bug |naat bhar do jholi |est naat 2023 | naat 2024 coming soon |bangla naat |best naat in urdu |beautiful naat |naat lyrics in english |naat lyrics in hindi|naat lyrics in urdu |naat lyrics in english and hindi