::

Search

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के / Amina Bi Ke Pyare Ka Jashn Manao Mil Ke (All Versions)

  • Share this:
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के / Amina Bi Ke Pyare Ka Jashn Manao Mil Ke (All Versions)

KHushiya.n manaao, jhande lagaao, ghar ko sajaao mil ke
apne nabi ki 'azmat ke tum geet sunaao mil ke

charaaGaa.n hi charaaGaa.n ho.n, KHushi ke shaadiyaane ho.n
mere aaqa ki aamad hai, sadaae.n marhaba ki ho.n

waali-e-makka, waali-e-tayba aur duniya ke waali
aamina bi ke ghar aae hai.n, mehki Daali Daali

har jaanib ye dhoom machi hai
har jaanib ye dhoom machi hai

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

sarkaar ki aamad ! marhaba !
dildaar ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
sachche ki aamad ! marhaba !
marhaba ! marhaba !

bi-hamdillah, 'abdullah ka noor-e-nazar aaya
mubaarak, aamina ka noor-e-dil laKHt-e-jigar aaya

ye 'abdul-muttalib ki KHoobi-e-qismat ki in ke ghar
charaaG-e-laa-makaa.n, kaun-o-makaa.n ka taajwar aaya

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

KHushiya.n manaao, jhande lagaao, ghar ko sajaao mil ke
apne nabi ki 'azmat ke tum geet sunaao mil ke

charaaGaa.n hi charaaGaa.n ho.n, KHushi ke shaadiyaane ho.n
mere aaqa ki aamad hai, sadaae.n marhaba ki ho.n

wo KHatmul-ambiya tashreef farma hone waale hai.n
nabi har ek pehle se sunaata ye KHabar aaya

rabi'-e-paak ! tujh par ahl-e-sunnat kyu.n na qurbaa.n ho.n
ki teri baarhwi.n taareeKH wo jaan-e-qamar aaya

marhaba ! marhaba !

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

sarkaar ki aamad ! marhaba !
dildaar ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
sachche ki aamad ! marhaba !
marhaba ! marhaba !

shab-e-meelaad-e-aqdas thi masarrat zarre zarre ko
magar iblis apne saathiyo.n me.n nauha kar aaya

zamee.n boli ki but-KHaane se paak-o-saaf hoti hu.n
nida kaa'be se uTThi ab mera maqsood bar aaya

marhaba ! marhaba !

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

KHushiya.n manaao, jhande lagaao, ghar ko sajaao mil ke
apne nabi ki 'azmat ke tum geet sunaao mil ke

charaaGaa.n hi charaaGaa.n ho.n, KHushi ke shaadiyaane ho.n
mere aaqa ki aamad hai, sadaae.n marhaba ki ho.n

chalo, ai mufliso ! jo aaj maangoge wo paaoge
ki sadqa baanT.ta arz-o-sama ka taajwar aaya

Jameel-e-Qadri ! jab sabz-gumbad un ka dekhunga
to samjhunga meri naKHl-e-tamanna me.n samar aaya

marhaba ! marhaba !

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

sarkaar ki aamad ! marhaba !
dildaar ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
sachche ki aamad ! marhaba !
marhaba ! marhaba !


Naat-Khwaan:

Hafiz Tahir Qadri



aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

waali-e-makka, waali-e-tayba aur duniya ke waali
aamina bi ke ghar aae hai.n, mehki Daali Daali

har jaanib ye dhoom machi hai
har jaanib ye dhoom machi hai

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

zabaa.n par ashraqal-badru 'alaina ki sadaae.n thi.n
dilo.n me.n maa da'aa lillahi daa'i ki du'aae.n thi.n

wo nanhi.n bachchiya.n chhato.n pe cha.Dh kar daf bajaati thi.n
rasool-e-paak ki jaanib ishaare kar ke gaati thi.n

ki ham hai.n bachchiya.n najjaar ke 'aali gharaane ki
KHushi hai aamina ke laa'l ke tashreef laane ki

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

rabi'-ul-awwal ummeedo.n ki duniya saath le aaya
du'aao.n ki qubooliyat ko haatho.n haath le aaya

KHuda ne naa-KHudaai ki KHud insaani safeene ki
ki rehmat ban ke chhaai baarahwi.n shab is maheene ki

azal ke roz jis ki dhoom thi wo aaj ki shab hai
jo qismat ke liye maqsoom thi wo aaj ki shab hai

jahaa.n me.n jashn-e-sub.h-e-'eid ka saamaan hota tha
udhar shaitaan kitna apni naakaami pe rota tha

ba-har-soo naGma-e-salle-'ala goonja fazaao.n me.n
KHushi ne zindagi ki rooh dau.Da di hawaao.n me.n

farishto.n ki salaami dene waali fauj gaati thi
janaab-e-aamina sunti thi, ye aawaaz aati thi

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

mubaarak ho habeeb-e-kibriya tashreef laate hai.n
mubaarak ho muhammad mustafa tashreef laate hai.n

mubaarak mursalee.n ke peshwa tashreef laate hai.n
mubaarak ho ki KHatmul-ambiya tashreef laate hai.n

mubaarak ho shah-e-har-do-sara tashreef laate hai.n
mubaarak 'aasiyo.n ke aasra tashreef laate hai.n

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

jo maangoge wo paaoge, poori hogi aas
door hai.n jitni KHushiya.n tum se, aa jaaengi paas
do jag ke muKHtaar ka naa'ra saare lagaao mil ke

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

nabiyo.n ke sultaan hai.n aaqa, nabiyo.n ke sultaan
KHalish Muzaffar ! wo karte hai.n har mushkil aasaan
apne apne man ki bipta un ko sunaao mil ke

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke

waali-e-makka, waali-e-tayba aur duniya ke waali
aamina bi ke ghar aae hai.n, mehki Daali Daali

har jaanib ye dhoom machi hai
har jaanib ye dhoom machi hai

aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke
aamina bi ke pyaare ka jashn manaao mil ke


Naat-Khwaan:

Haji Mushtaq Attari
Syed Rehan Qadri

 

ख़ुशियाँ मनाओ, झंडे लगाओ, घर को सजाओ मिल के
अपने नबी की 'अज़मत के तुम गीत सुनाओ मिल के

चराग़ाँ ही चराग़ाँ हों, ख़ुशी के शादियाने हों
मेरे आक़ा की आमद है, सदाएँ मरहबा की हों

वाली-ए-मक्का, वाली-ए-तयबा और दुनिया के वाली
आमिना बी के घर आए हैं, महकी डाली डाली

हर जानिब ये धूम मची है
हर जानिब ये धूम मची है

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

सरकार की आमद ! मरहबा !
दिलदार की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
सच्चे की आमद ! मरहबा !
मरहबा ! मरहबा !

बि-हम्दिल्लाह, 'अब्दुल्लाह का नूर-ए-नज़र आया
मुबारक, आमिना का नूर-ए-दिल लख़्त-ए-जिगर आया

ये 'अब्दुल-मुत्तलिब की ख़ूबी-ए-क़िस्मत कि इन के घर
चराग़-ए-ला-मकाँ, कौन-ओ-मकाँ का ताजवर आया

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

ख़ुशियाँ मनाओ, झंडे लगाओ, घर को सजाओ मिल के
अपने नबी की 'अज़मत के तुम गीत सुनाओ मिल के

चराग़ाँ ही चराग़ाँ हों, ख़ुशी के शादियाने हों
मेरे आक़ा की आमद है, सदाएँ मरहबा की हों

वो ख़त्मुल-अंबिया तशरीफ़ फ़रमा होने वाले हैं
नबी हर एक पहले से सुनाता ये ख़बर आया

रबी'-ए-पाक ! तुझ पर अहल-ए-सुन्नत क्यूँ न क़ुर्बा हों
कि तेरी बारहवीं तारीख़ वो जान-ए-क़मर आया

मरहबा ! मरहबा !

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

सरकार की आमद ! मरहबा !
दिलदार की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
सच्चे की आमद ! मरहबा !
मरहबा ! मरहबा !

शब-ए-मीलाद-ए-अक़्दस थी मसर्रत ज़र्रे ज़र्रे को
मगर इब्लीस अपने साथियों में नौहा कर आया

ज़मीं बोली कि बुत-ख़ाने से पाक-ओ-साफ़ होती हूँ
निदा का'बे से उट्ठी अब मेरा मक़्सूद बर आया

मरहबा ! मरहबा !

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

ख़ुशियाँ मनाओ, झंडे लगाओ, घर को सजाओ मिल के
अपने नबी की 'अज़मत के तुम गीत सुनाओ मिल के

चराग़ाँ ही चराग़ाँ हों, ख़ुशी के शादियाने हों
मेरे आक़ा की आमद है, सदाएँ मरहबा की हों

चलो, ऐ मुफ़लिसो ! जो आज माँगोगे वो पाओगे
कि सदक़ा बाँटता अर्ज़-ओ-समा का ताजवर आया

जमील-ए-क़ादरी ! जब सब्ज़-गुंबद उन का देखूँगा
तो समझूँगा मेरी नख़्ल-ए-तमन्ना में समर आया

मरहबा ! मरहबा !

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के


सरकार की आमद ! मरहबा !
दिलदार की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
सच्चे की आमद ! मरहबा !
मरहबा ! मरहबा !


ना'त-ख़्वाँ:

हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी



आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

वाली-ए-मक्का, वाली-ए-तयबा और दुनिया के वाली
आमिना बी के घर आए हैं, महकी डाली डाली

हर जानिब ये धूम मची है
हर जानिब ये धूम मची है

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

ज़बाँ पर अश्रक़ल-बदरु 'अलैना की सदाएँ थीं
दिलों में मा द'आ लिल्लाहि दा'ई की दु'आएँ थीं

वो नन्हीं बच्चियाँ छतों पे चढ़ कर दफ़ बजाती थीं
रसूल-ए-पाक की जानिब इशारे कर के गाती थीं

कि हम हैं बच्चियाँ नज्जार के 'आली घराने की
ख़ुशी है आमिना के ला'ल के तशरीफ़ लाने की

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

रबी'-उल-अव्वल उम्मीदों की दुनिया साथ ले आया
दु'आओं की क़ुबूलियत को हाथों हाथ ले आया

ख़ुदा ने ना-ख़ुदाई की ख़ुद इंसानी सफ़ीने की
कि रहमत बन के छाई बारहवीं शब इस महीने की

अज़ल के रोज़ जिस की धूम थी वो आज की शब है
जो क़िस्मत के लिए मक़्सूम थी वो आज की शब है

जहाँ में जश्न-ए-सुब्ह-ए-'ईद का सामान होता था
उधर शैतान कितना अपनी नाकामी पे रोता था

ब-हर-सू नग़्मा-ए-सल्ले-'अला गूँजा फ़ज़ाओं में
ख़ुशी ने ज़िंदगी की रूह दौड़ा दी हवाओं में

फ़रिश्तों की सलामी देने वाली फ़ौज गाती थी
जनाब-ए-आमिना सुनती तो ये आवाज़ आती थी

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

मुबारक हो हबीब-ए-किब्रिया तशरीफ़ लाते हैं
मुबारक हो मुहम्मद मुस्तफ़ा तशरीफ़ लाते हैं

मुबारक मुर्सलीं के पेशवा तशरीफ़ लाते हैं
मुबारक हो कि ख़त्मुल-अंबिया तशरीफ़ लाते हैं

मुबारक हो शह-ए-हर-दो-सरा तशरीफ़ लाते हैं
मुबारक 'आसियों के आसरा तशरीफ़ लाते हैं

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

जो माँगोगे वो पाओगे, पूरी होगी आस
दूर हैं जितनी ख़ुशियाँ तुम से, आ जाएँगी पास
दो जग के मुख़्तार का ना'रा सारे लगाओ मिल के

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

नबियों के सुल्तान हैं आक़ा, नबियों के सुल्तान
ख़लिश मुज़फ़्फ़र ! वो करते हैं हर मुश्किल आसान
अपने अपने मन की बिपता उन को सुनाओ मिल के

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के

वाली-ए-मक्का, वाली-ए-तयबा और दुनिया के वाली
आमिना बी के घर आए हैं, महकी डाली डाली

हर जानिब ये धूम मची है
हर जानिब ये धूम मची है 

आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के
आमिना बी के प्यारे का जश्न मनाओ मिल के


ना'त-ख़्वाँ:

हाजी मुश्ताक़ अत्तारी
सय्यिद रैहान क़ादरी

Mohammad Wasim

Mohammad Wasim

Kam Wo Le Lijiye Tumko Jo Razi Kare, Theek Ho Naame Raza Tumpe Karoro Durood.

best naat |rapid naat test |naat test |urdu naat |har waqt tasawwur mein naat lyrics |a to z naat mp3 download |junaid jamshed naat |new naat sharif |naat assay |naat allah hu allah |naat audio |naat allah allah |naat app |naat allah mera sona hai |naat arabic |naat aptima |naat akram rahi|naat album |arabic naat |audio naat |audio naat download |ab to bas ek hi dhun hai naat lyrics |aye sabz gumbad wale naat lyrics |arbi naat |atif aslam naat |allah huma sale ala naat lyrics |rabic naat ringtone |naat blood test |naat by junaid jamshed  |naat beautiful |naat book |naat battery |naat by veena malik |nat bug |naat bhar do jholi |est naat 2023 | naat 2024 coming soon |bangla naat |best naat in urdu |beautiful naat |naat lyrics in english |naat lyrics in hindi|naat lyrics in urdu |naat lyrics in english and hindi